भोपाल गैस त्रासदी

थी घनघोर काली और सर्द रात,
चारों और घोर सन्नाटा था,
थी आँखों की चुभन या अन्धकार,
कुछ भी तो नज़र ना आता था,
जिस की सुबह ना आई कभी,
क्या बोलूं ऐसी रात पे मैं!
और क्या बोलूं इस बात पे मैं?

हर तरफ मौत का मंज़र था,
ये शहर लाशों का समंदर था,
जाने वो कैसा दानव था,
जो इतना विकराल भयंकर था,
आंसू आंसू को रोकते थे,
क्या बोलूं ऐसे हालात पे मैं!
और क्या बोलूं इस बात पे मैं?

भय ही था जिसे कहा सबने,
भय ही था जिसे सुना होगा,
भय को सबने महसूस किय़ा,
भय का हर स्वाद चखा होगा,
भय को जिसने भय से देखा ,
क्या बोलूं ऐसे जज़्बात पे मैं!
और क्या बोलूं उस बात पे मैं?

17 thoughts on “भोपाल गैस त्रासदी

  1. I have always admired your work, but reading this has been one of the most moving experience ever. It was indeed a dark day. It should remain the only one such day forever, and anywhere.

    Like

  2. Very nice poem. Using few lines but touching the true depth of the subject. Very well written short and sweet poem with lots of meaning.

    Like

  3. Great expresssion of emotions….admire the feelings as i believe you were not even two years old at that time Nehal. Reaffirms our committment to serve the needy patients and our care for gas victims.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s