अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस

सनातन धर्म का मंत्र योग है
प्रकृति मैं पवित्रता लता है
कर्म, राज, भक्ति, ज्ञान बन,
चेतना को सुदृढ़ बनाता है।

स्वांश में शीतलता भरता,
हृदय में धीरज लाता है,
योग स्वयं से हमें जोड़ता,
चित्त को शांत बनाता है।

करता तन को रोग मुक्त
पीढ़ा को तन से हटाता है
सकारात्मक ऊर्जा भर देता है,
तनाव को मुक्त करता है।