​माफ कीजियेगा! 

माफ कीजियेगा!

गलती हो गयी हमसे, या यूं कहें की बहुत सारी गलतियाँ हुई हैं अब तक।

परंतु आप तो दयालु हैं हमें पूरा यकीन है कि आप हमें क्षमा जरूर कर देंगे। नहीं आप हमारा अस्तित्व नहीं मिटाएंगे बस इस बार बक्श दीजिये। हम् एक एक करके सभी गलतियाँ कबूल लेते हैं आपके सामने। पहली गलती कि हमने लड़की के रूप में जन्म लिया। आपके कुटुम्ब की नाक काट दी पूरी, कितना जश्न मनता जो हम लड़का पैदा हो जाते। देखिए इस अपराध की तो हम घुटनों पर क्षमा मांगते हैं। ऐसे ऊंचे कुटुम्ब में जहां सदा ही पहली औलाद लड़का होना चाहिए उसे हमने पैदा होते ही कलंकित कर दिया, सच पूछिए आज तक पछतावा है हमें इस अपराध का। अब ये कम था कि हम ज्ञानवान भी हो गए। कितनी निकृष्ट बात है यह कि हममें अपनी उम्र के लड़कों से अधिक ज्ञान और संवेदनशीलता है। यह तो लगभग अक्षम्य अपराध है। किंतु पुनः क्षमा याचना। क्षमा याचना हमारे सांवले होने की भी, एक तो लड़की का कलंक और उस पर भी साँवली। कैसे सामना करें हम आपके समाज का।

देखिए हम इस बात के लिए भी क्षमा प्रार्थी हैं कि हमारे भीतर इच्छाएँ हैं कुछ बनने की, पढ़ने लिखने की, अच्छा जीवन जीने की। हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि हम आपके रीति रिवाजों की तरह चल पाएं, बंध पाएं आपके बनाये खूँटे से, आपके द्वारा बांधी हुई घंटी को गले में लटकाए रहें, और जब भी आप कुछ कहें हम हाँ में ही घंटी को हिलाएं। देखिए कितनी मेहनत कर रहें हैं इस देश में हम आपको प्रसन्न रखने के लिए। लीजिये हम यह कसम भी उठा लेते हैं की कभी भी सूरज को डूबते नहीं देखेंगे। और सर कटा लेंगे यदि किसी ने हमें बिन पर्दे के देख लिया तो। सम्मान का तो हम नाम भी नही लेंगे आपके सामने। चलिये अब यह भी मान लेते हैं कि आपके और ईश्वर के बीच का एक मात्र रोड़ा भी हम ही हैं वरना आप जैसी महान कौम का तो कबका संपर्क हो जाता ईश्वर से। और एक बात, भगवान करे ये माँ, बहन, बेटी, पत्नी, दोस्त जैसी मजबूरी कभी आप पर न पड़े, वैसे भी ये शब्द रिश्तों से अधिक गालियों में शोभा देते हैं। देखिए बस इस बार क्षमा चाहते हैं अपने जन्म पर, हमें विश्वास है कि आप दयालु हैं।

​हम से मिलिए हम देश और संस्कार हमारी जोरू (अच्छी भाषा में धर्म पत्नी)

बहुत आगे आ गए हम, खूब उन्नत हो गए, देखो कैसे बढ़िया ढंग से हमारी तरक्की हो रही है, कद, काठी, रंगत, संगत सभी तो निखर आयी है, और फिर बढ़ें भी क्यों न देश हैं हम, उन्नतशील से उन्नत होते। जब हम निकलते हैं तन कर, बन सँवर कर, पूरी चौड़ाई से तो अच्छे अच्छे हमारे जूतों में हमारी संस्कार की कढ़ाई देखते हैं। संस्कार हमारी जोरू का नाम है जिसे प्यार से बीवी या धर्मपत्नी भी कहते हैं। बहुत सुंदर कढ़ाई कढ़ती है वह। उसकी कढ़ाई से ही आप उसकी खूबसूरती का पता लगा सकते हैं क्योंकि हमारी संस्कार को हम घर पर ही रखते हैं घूंघट में, सजा कर, घुंघरू वाली झांझर पहना कर जिससे उसकी सुंदरता तो बढ़ती ही है, और उसकी हर आहट पर हमारा ध्यान भी रहता है।

खैर छोड़िए धर्मपत्नी को, जब धर्म का कोई काम करेंगे तो बिठा लेंगे उसे भी बगल में हवन में आहुति देने अभी क्यों बेकार में समय गवाएं। वैसे समय हमारे सुपुत्र का नाम है। बड़ा ही चंचल है। असल में उसकी की जिद से हम उन्नत शील से उन्नत हुए हैं । देखो कैसी चालकी से समय ने शील हटा दिया उन्नत का, पर आप किसी से कहना मत। दरअसल उन्नत हमारे पड़ोसी की बेटी है खूब हवा में उड़ती थी, पढ़ लिख कर न जाने क्या बन जाना चाहती थी। भाई अब हम देश और हमारे बेटे समय का उन्नत पर दिल आ गया फिर क्या, अब कोई रोक पाया है क्या समय को उठा लाया उन्नत को, अब उन्नत भी हमारे घर के दरवाजों के पीछे रहती है घूंघट में और क्यों न रहे भाई, देश हैं हम, बेटा है हमारा समय।

अरे आप हमें गलत मत समझिए कोई दुश्मनी नहीं है हमारी औरतो से, बल्कि हम तो दूसरी जात वालों से ज्यादा इज्जत देते हैं अपने घर की औरतों को। अब धर्म में लिखा तो नहीं काट सकते न। देश हैं हम समाज के साथ जो रहते हैं। अरे समाज हमारे बाप का नाम है। वैसे तो सारा दिन पड़े रहते हैं बिस्तर पर खाँसते- खखारते परंतु कभी हमे संस्कार की बात तक करते सुन लें तो खाल तक खींचने खड़े हो जाते हैं। उमर भी गिद्ध की लिखा कर लाये हैं। एक बार संस्कार ने बड़े ही धीरे से कहा कि आज भावना नहीं आयी तो तमतमा कर बोले इस कुलक्षणी से घर का काम नहीं होता जो उस भावना के इंतजार में बैठी रहती है। भावना हमारी काम वाली है जिसके बगैर घर का काम तो नहीं चलता परंतु उसकी दो कौंड़ी की भी इज्जत नहीं है न तो हमारे घर में और न ही बाहर। परंतु समाज के आगे मुंह नहीं खोलते, भले ही देश हैं हम।